SHARE

गढ़ गणेश: एक सुहानी सुबह की शुरुआत

सुबह का वक़्त बेहद ख़ास होता है क्यूंकि हर आने वाले दिन के साथ कई उम्मीदें भी जाग जाती हैं। सुबह सभी की होती है लेकिन सुहानी सुबह सिर्फ किसी -किसी की ही होती है। हर व्यक्ति एक सुहानी सुबह के साथ अपने दिन की शुरूआत करना चाहता है लेकिन ये सुहानी सुबह कैसे मिलेगीं ये हर किसी को नही पता। हर नये दिन के साथ नई ताजगी और नए सपने भी दस्तक देने लगते हैं और विश्वास की ज़िंदग़ी भी और ताज़ा हो जाएगी।
सुहानी सुबह पाने के लिए लोंग क्या नही करते कुछ लोग मंदिर जाते है तो कुछ लोग पार्क और कुछ लोग साइकिल चलाते है तो कुछ लोग टहलने निकल जाते है लेकिन अगर आपको कहा जाये कि सुबह-सुबह आपको पहाड पर जाना है और अपनी सुबह की शुरुआत वहां से करनी है तो शायद आपके मन में सिर्फ एक की सवाल आयेगा आखिर वहां ही क्यो ??

आइये आज हम आपकों बताते है सुहानी सुबह क्या होती है।

गढ़ गणेश मंन्दिर का नाम आपने सुना ही होगा। जयपुर की शान भगवान क्षी गणेश जी का विशाल मंन्दिर जहा पर हर बुधवार को भक्तों का मेंला लगा रहता है। ये मंदिर एक उची विशाल पहाडी पर स्थित है। और कुछ लोग अपनी सुबह की शुरुआत वहां से करते है और अपनी सुबह को बनाते है एक सुहानी सुबह

garh-ganesh-temple
garh-ganesh-temple

बात उन समय की है जब पूरे भारत देश में एक कालरूपी लाॅकडाउन लगा गया था। उस समय इंसान तो क्या हर पशु पक्षी पानी खाने की व्यवस्था में लग गये परन्तु इस व्यवस्था में इंसानो ने तो अपने खाने पानी की पूर्ण व्यवस्था कर ली थी परन्तु पक्षी वो कैसे करते वो तो पूरी तरह से हम इंसानो के उपर निर्भर है और वो इस कालरूपी लाॅकडाउन की इस लडाई में हार गये। उस समय गढ़ गणेश की इस पहाडी पर पशु पक्षीओं को न तो खाने को दाना मिलता था और ना ही पीने को पानी क्योकि उस समय कोई भी व्यक्ति अपने द्यर से बाहर नही निकलता था। प्रकति की गोद में बसी इस गढ गणेश की पहाडी पर अनेक प्रकार की पक्षी रहते है और सबसे खास बात इस पहाडी पर सबसे ज्यादा मोर रहते है जो कि सर्दियो से इस पहाडी पर रहते है। इन पक्षीओं के अलावा और भी न जाने कितने प्रकार के पशु पक्षी इस पहाडी पर रहते है और ये सभी इंसानो पर निर्भर है लेकिन उस समय कोई भी वहां नही जाता था और पशु पक्षी खाने की वजह से मर रहे थे।

एक सुहानी सुबह की शुरुआत

ठीक उस समय एक व्यक्ति जिसे इस बात का थोड़ा सा आभास हुआ क्योकि वो व्यक्ति उस पहाडी के नजदीक ही रहता था वो व्यक्ति उस रात को ठीक से सो भी नही पाया और उसी रात उसने निश्चय किया कि कल सुबह से कोई भी पशु पक्षी भूखा नही रहेगा। और अब वो सुबह होने का इंतजार करने लगा जैसे ही सुबह के 5 बजें वो व्यक्ति अपनी अनाज की टंकी से 2 बड़ी थैली अनाज की भरी और साथ में पानी की बड़ी केन और डर-डर के जाने लगा।

मन में बस इस बात का डर था कि कही कोई पुलिस वाला न मिल जाये परन्तु जिसे खुद भगवान ने इस काम के लिए चुना हो उसका कोई क्या कर सकता है। उस दिन वो व्यक्ति बिना किसी रूकावट गढ़ गणेश की पहाडी पर पहुचा। यहाॅ मै आपको बता दू कि गढ गणेश पर जाने के लिए लगभग 400-500 सीढियाँ है और वहा पर हर कोई नही जा सकता।

और जैसे ही वो व्यक्ति जैसे-जैसे सीढियाँ चढ़ता अनेक पक्षी उस व्यक्ति के चारो और आ गये जैसे द्यर पहुचने पर बच्चे चीज लेने के लिए आते है वैसे ही मानों पक्षी उस व्यक्ति का इंतजार कर रहे हो। उस व्यक्ति ने मंदिर से पहले एक स्थान पर अनाज डाला तो हजारों की तादाद पर पक्षी आ गयें उसने उस समय भगवान को शुक्रिया कहा और प्रतिज्ञा की वो आज से चाहे जो हो जाये वो रोजाना आयेगा और सभी लोंगो को आने के लिए प्रेरित करेगा।
जब वो व्यक्ति जा रहा था तो मानो सभी पक्षी उस व्यक्ति को धन्यवाद कह रहे थे। और उस दिन उस व्यक्ति ने की एक सुहानी सुबह की शुरुआत

जी हा दोस्तो अगर आप किसी बेजुबान पशु-पक्षी के लिए अगर कुछ करते है तो ना केवल आपकी सुहानी सुबह की शुरुआत होगी बल्कि आपको भी बहुत अच्छा लगेगा और भगवान भी खुश होगे।

उस व्यक्ति ने आगे चलकर ना केवल पक्षी के लिए खाने की व्यवस्था की अपितु उस पहाडी को पुन हरा-भरा करने की ठान ली और उस व्यक्ति ने वो कर भी दिया। परन्तु इस काम को करने में उसे अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ा जिसे मै अपने अगले पार्ट मै बताउगा। वो व्यक्ति कौन है और उसकी टीम में कौन- कोन है और उन्होने इस प्रकति के लिए क्या क्या किया है ये भी मै अपने अगले भाग में बताउगा।

ये आपको कैसा लगा। आप मुझे कमेंट कर के बता सकते है और आपको ये लेख अच्छा लगा हो तो आप इसे दूसरे लोेगों के साथ Share करे और हा यदि आपको उस व्यक्ति का नाम पता हो तो प्लीज आप जरूर बताये।

6 COMMENTS

  1. A great inspirational story we have to learn from this story. When I was reading this story then I was feeling that when I would have a chance to go at Gan Ganesh mandir for my Suhani Subah. I also want to meet that person who have done this great job. I am waiting for your next article to know about that great person. Great article man, thanks for sharing with us.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here