महिलाओं के लिए चमत्कारी औषधि है सफेद मूसली, दूर होती हैं ये 6 समस्‍याएं

924
0
SHARE

रक्त की समस्याओं के इलाज के लिए कुछ घरेलू उपचारों का उपयोग किया जा सकता है।

आजकल, कई लोग अपनी स्वास्थ्य देखभाल के लिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का उपयोग करना पसंद करते हैं। इसलिए, समय-समय पर, हम आपको जड़ी-बूटियों के लाभों के बारे में बताते हैं जो रक्त के स्वास्थ्य के लिए दवा के रूप में काम करते हैं। आज इस श्रंखला में हम आपको जड़ी बूटियों के फायदे बताते हुए मुसली के फायदों के बारे में बता रहे हैं। जी हां, आपने मुसली का नाम तो सुना ही होगा। आयुर्वेद में, दवा के लिए सफेद मूसली की जड़ें और बीज सबसे अधिक उपयोग किए जाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ताकत के लिए कई आयुर्वेदिक दवाओं में मोस्लेम का इस्तेमाल किया जाता है जो आपके स्वास्थ्य के लिए किसी चमत्कारिक औषधि से कम नहीं है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं, विशेषकर महिलाओं के रक्त स्वास्थ्य समस्याओं के लिए किया जाता है। सफेद मूसली महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए कैसे फायदेमंद हो सकती है? आइए जानते हैं आयुर्वेदिक विशेषज्ञ वाजपेयी से इस बारे में।

white-musli
सफेद मूसली

विशेषज्ञ वाजपेयी बताते हैं कि “सफेद मूसली को शक्ति वर्धक के रूप में जाना जाता है, इसलिए इसे आयुर्वेद में औषधि के रूप में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है सफेद सरसों की जड़ें और बीज दवा में विशेष रूप से उपयोगी होते हैं। कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, आदि बड़ी मात्रा में पाए जाते हैं। मुसली चूहों के लिए भी बहुत उपयोगी है। यह बढ़ती उम्र के प्रभावों को कम करता है, सौंदर्य को बढ़ाता है। इसके अलावा यह महिलाओं की कई समस्‍याओं जैसे यूरीन में जलन, ब्रेस्‍ट में दूध बढ़ाने, मोटापा दूर भगाने, सांसों के रोग और ब्‍लड की कमी यानि एनिमिया को दूर करने में फायदेमंद होती है।”

ब्रेस्टमिल्क बढ़ाने में उपयोगी

यदि आप अभी भी जन्म दे रहे हैं और पूरी तरह से स्तनपान नहीं कर रहे हैं

white-musli-ke-benefit
सफेद मूसली

तो ऐसी महिलाओं को ब्रेस्‍ट में दूध बढ़ाने के लिए सफेद मूसली का इस्‍तेमाल करना चाहिए। इसे इस्‍तेमाल करने के लिए 2-3 ग्राम सफेद मूसली के चूर्ण में बराबर भाग मिश्री मिला लें। इसका दूध के साथ सेवन करें। इससे ब्रेस्‍ट में दूध बढ़ने लगेगा।

अर्थराइटिस में मददगार

महिलाओं में कैल्शियम की कमी बुढ़ापे में शुरू होती है और इसके कारण गठिया की समस्या उन्हें परेशान करने लगती है। ऐसी स्थिति में सफेद मूसली का सेवन फायदेमंद होगा। वाजपेयी जी के अनुसार, “सफेद मुसली कंद को पीसकर या सफेद मूसली के चूर्ण का सेवन करने से गठिया के दर्द से राहत मिलती है।”

यूरीन संबंधी समस्‍या

कई महिलाएं मूत्र असंयम और दर्द से पीड़ित हैं। ऐसी महिलाओं के लिए मुसली बहुत फायदेमंद है। 1-2 ग्राम मूसली की जड़ या सफेद मूसली की जड़ को पीसकर दूध में इलायची के साथ उबालें और इसे पियें। इससे कुछ ही दिनों में आपको आराम मिलेगा।

पेट की समस्‍याओं में फायदेमंद

पेट में गड़बड़ी जैसे पेट दर्द, खाना की इच्छा न होना, दस्त जैसी समस्याएं होने पर सफेद मूसली बहुत फायदेमंद होती है। इसके लिए सफेद मूसली के कंद के चूर्ण का सेवन करना चाहिए। 1-2 ग्राम कंद का चूर्ण लेने या 2-3 ग्राम सफ़ेद मूसली की जड़ का चूर्ण दूध में मिलाकर लेने से समस्‍या ठीक हो जाती है।

कमजोरी दूर करने में फायदेमंद

कभी-कभी अच्छा खाना नहीं खाने या किसी अन्य कारण से महिलाओं में कमजोरी की शिकायत होती है। इसमें सफेद मुसली पाउडर लेना बहुत फायदेमंद है। अगर आपको कमजोरी महसूस होती है तो 2-4 ग्राम चूर्ण सफेद मूसली की जड़ में मिश्री मिलाकर सेवन करें। इसे दूध के साथ पिएं।

ल्यूकोरिया में फायदेमंद

महिलाओं के लिए ल्यूकोरिया एक आम समस्या है। यह महिलाओं के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। लेकिन आपको चिंता नहीं करनी चाहिए, क्योंकि आप सफेद मूसली का उपयोग करके ल्यूकोरिया को ठीक कर सकते हैं। समस्‍या से बचने के लिए 1-2 ग्राम सफेद मूसली की जड़ के चूर्ण का सेवन करें।

इस तरह से सफेद मूसली महिलाओं की 6 समस्‍याओं को दूर करने में मदद करती है। अगर आप भी इनमें से किसी भी समस्‍या से परेशान हैं तो आप भी इस औषधि का सेवन जरूर करें। इस तरह की जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here